Take a fresh look at your lifestyle.

हृदय रोग ओर स्ट्रोक से बचने के लिए कुछ उपाय-डॉ अश्विनी मेहता-सर गंगा राम अस्पताल

हृदय रोग और स्ट्रोक भारत में मृत्यु दर का एक प्रमुख कारण है ध्यान रखने के उपाय के रूप में जीवन शैली में  बदलाव की महत्व पर जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है

pnb_logo
pfc_strip_advt
nhpc_strip
scroling_strip
Shadow

नई दिल्ली,अनुमानों के अनुसारभारत में, 2021 मेंकार्डियोवैस्कुलर बीमारियों (सीवीडीसे क्रमशः 2.1 मिलियन मौतें और10.9 मिलियन अस्पताल में भर्ती होने की संभावना है। हृदय रोग और स्ट्रोक जैसे सीवीडी एक अस्वास्थ्यकर और गतिहीन जीवन शैली का परिणामहैं। निवारक जीवन शैली का नेतृत्व करने और स्थिति का समय पर निदान करने के महत्व पर जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता हैविशेष रूप से उनलोगों में जो अतिसंवेदनशील हो सकते हैं।

हृदय रोग और स्ट्रोक से होने वाली मौतें वसायुक्त पदार्थों और सेलुलर कचरे (सजीले टुकड़ेके निर्माण के साथ रक्त वाहिकाओं के प्रगतिशीलअवरोध के कारण होती हैं। जब समय के साथ धमनियों में प्लाक जमा हो जाता हैतो इससे एनजाइना या दिल का दौरा पड़ सकता है।

इस बारे में बात करते हुएडॉ अश्विनी मेहतासर गंगा राम अस्पतालवरिष्ठ सलाहकारदिल्ली ने कहाआयु और जीवन शैली के विकल्पअक्सर रक्त वाहिकाओं को मोटा कर देते हैं और उन्हें कठोर बना देते हैं। यह आगे शरीर में रक्त के प्रवाह को प्रतिबंधित करता है जिससेएथेरोस्क्लेरोसिस नामक स्थिति उत्पन्न होती है। वसायुक्त पदार्थों और पट्टिका का निर्माण रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध कर सकता है या रक्त के थक्केको ट्रिगर कर सकता है जिससे एनजाइना या दिल का दौरा पड़ सकता है। जब यह मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों में होता हैतोपूर्व संकीर्ण हो जाता है और इसे अवरुद्ध कर देता हैजिससे स्ट्रोक होता है।

डॉ अश्वनी मेहता ने कहा कि, “हमारी हृदय प्रणाली की स्थिति इस बात पर निर्भर करती है कि व्यक्ति किस तरह की जीवन शैली कानेतृत्व करता है। हालांकि उम्र और हृदय रोगों के पारिवारिक इतिहास में एक भूमिका होती हैइनमें से कई स्थितियों से बचने के लिए स्वस्थ भोजननियमित शारीरिक गतिविधिस्वस्थ वजन बनाए रखनेरक्तचाप जैसी महत्वपूर्ण बातों पर नियंत्रण रखना चाहिए और आदतों जैसे  धूम्रपान और शराबपीना से बचना चाहिए। 

यदि कोई व्यक्ति दिल का दौरा जैसी जटिलताओं से पीड़ित हैतो लोकप्रिय उपचार विकल्पों में से एक एंजियोप्लास्टी है। यह उपचार हृदय कीमांसपेशियों के नुकसान को कम करता है या उससे बचाता है और अवरुद्ध धमनियों के मामले में रक्त प्रवाह को बहाल करने और सुधारने में भी मददकरता है। इस प्रक्रिया मेंएक लंबीपतली ट्यूब (कैथेटरको धमनी के संकुचित हिस्से में डाला जाता है। बाद मेंएक पतले तार की जाली (स्टेंटकोडिफ्लेटेड बैलून पर लगाया जाता है जिसे कैथेटर के माध्यम से संकुचित क्षेत्र में भेजा जाता है। गुब्बारा फुलाया जाता हैधमनी की दीवारों के खिलाफजमा को संकुचित करता हैऔर धमनी में एम्बेडेड विस्तारित स्टेंट छोड़ देता है। आजकलड्रगएल्यूटिंग स्टेंट हैं जो प्रक्रिया के बाद तनावग्रस्त धमनियोंको ठीक करने में मदद करने के लिए दवा छोड़ते हैं। आज यूएसएफडीए द्वारा प्रमाणितड्रगएल्यूटिंग स्टेंट हैंजिनका जटिलताओं वाले रोगियों मेंसुरक्षित उपयोग के लिए अच्छी तरह से अध्ययन किया जाता है या जिन्हें एंजियोप्लास्टी के एक महीने बाद दवा को बाधित करना पड़ सकता है।

हृदय रोग ओर स्ट्रोक से बचने के लिए कुछ उपाय

  •  धूम्रपान छोड़नाधूम्रपान एक बड़ा जोखिम कारक हैनिकोटीन के साथ यह सीधे रक्त वाहिकाओं में जाता है।
  • स्वस्थ भोजन खानाविशेषकर प्रोसेस्ड भोजन से बचना चाहिए।
  •  स्वस्थ वजन बनाए रखें – व्यायाम और स्वस्थ भोजन खाने से यह आसान हो जाएगा।
  •  तनाव को प्रबंधित करें – मांसपेशियों को आराम देनेसांस लेने की तकनीक या विज़ुअलाइज़ेशन का प्रयास करें।

Leave a Reply

x
error: www.newsip.in (C)Right , Contact Admin Editor Please
%d bloggers like this: