Message here

दिल्ली मेँ निर्भया कांड की पुनरावृत्ति।

ईस्ट पॉइंट स्कूल , वसुंधरा एंक्लेव के परिसर के अंदर !

दिल्ली मे निर्भया जैसे कांड की पुनरावृत्ति

राजधानी दिल्ली मे एक बार पुनः निर्भया जैसे कांड की पूर्णावृति हुई है । जी हाँ पूर्वी दिल्ली के वसुंधरा एनक्लेव के ईस्ट पॉइंट स्कूल मे स्कूल प्रशासन के नाक नीचे एक जघन्य अपराध को अंजाम दिया गया है । जिसके खिलाफ आज दिनांक 08-04-2024 के इस स्कूल के खिलाफ स्थानीय लोगों का जोरदार विरोध प्रदर्शन हुआ । लोगों मे इस स्कूल,दिल्ली पुलिस एवं दिल्ली सरकार के खिलाफ भरी आक्रोश देखने को मिला ।

लोगों का आरोप है की स्कूल प्रशासन अपराधियों को बचाने की भरपूर कोशिश कर रही है एवं सीसीटीवी फूटेज दिल्ली पुलिस की मदद नहीं कर रही है । लोगो द्वारा ये मांग किया जा रहा था इस स्कूल की मान्यता रद्द कर दिया जाय । लोगों के विरोध को देखते हुये मौके पर भरी पुलिस की व्यवस्था किया गया था । मौके पर थाना न्यू अशोक नगर के थाना प्रभारी उपस्थित थे ।

 गौरतलब है कि ईस्ट पॉइंट स्कूल l में पढ़ने वाले आठवीं कक्षा के छात्र के साथ मामूली  कहासुनी के बाद स्कूल के ही 6 छात्रों द्वारा उसके साथ मार-पीट, अप्राकृतिक दुष्कर्म किया गया और नाबालिग के गुप्तांग में लकड़ी डाल कर घूमा दिया जिससे कि उसकी आंत फट गयी। पीड़ित क्षात्र का इस समय अस्पताल के आईसीयू मे भर्ती , जहाँ वह ज़िंदगी और मौत से जूझ रहा है। पुलिस द्वारा आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं करने एवं स्कूल के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने से स्थानीय निवासियों में स्कूल और पुलिस के खिलाफ के ख़िलाफ़ भरी विरोध देखा गया ।

प्रदर्शन मे शामिल लोगों का ये भी कहना था की स्कूल जिन बिगड़े बच्चों का नामांकन कहीं नहीं होता है उन्हे ये स्कूल मोटा पैसा लेकर अपने यहाँ नामांकन दे देता है । बिगड़े हुये स्थानीय बच्चों के द्वारा खुलेआम गुंडागर्दी होती रहती है , जो की यहाँ के स्कूल शिक्षकों को भली भांति पता है , पर इनके खिलाफ कोई कारवाही नहीं होती थी । जिसके कारण बिगड़े बच्चो के हौशले बुलंद होते हैं ।

परिजनो ने स्कूल प्रशासन पर ये आरोप लगाया की आरोपी छात्र दबंग एवं पैसे वाले परिवार से संबंध रखता है और उन्होने स्कूल प्रशासन को मोटा पैसा दिया है जिसके कारण स्कूल पुलिस को सहयोग नहीं कर रहा है ।

स्कूल प्रशासन द्वारा वारदात के समय की सीसीटीव फुटेज पुलिस को नहीं देने से यह स्पष्ट होता है कि स्कूल आरोपियों से मिला हुआ है और उनेह बचाने का सौदा कर लिया है।

पीड़ित परिवार वालों का ये कहना है कि चूँकि घटना स्कूल परिसर के अंदर हुई है, इस लिए स्कूल को सबसे पहले आरोपी बनाना चाहिए था लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया। इस लिए जाँच पूरी होने तक  तक स्कूल परिसर को सील कर दिया जाये जिससे की साक्ष्यों को मिटाया न जा सके। परिवार ने बताया कि हमें शंका है कि घटना वाली जगह से स्कूल प्रशासन ने सुबूतों को मिटा दिया होगा। इस लिए मामले की जांच पूरी होने तक स्कूल परिसर को सील किया जाए और स्कूल पर साक्ष्य को मिटाने का भी मामला दर्ज करके दोषी स्कूल के लोगों को भी तत्काल गिरफ्तार किया जाये।

जैसा की पता चला है की पीड़ित के पिता नहीं है । पीड़ित दो बहन और एक भाई है। घर का खर्च बहन किसी तरह से चला रही है । ऐसे मे दिल्ली सरत्कार से पीड़ित को अविलंब मदद की जरूरत है । ज्ञात हो की पीड़ित की दो बार सर्जरी हो चुकी है । अभी उसका पेट को काट कर इंटेस्टाइन को बाहर निकाल कर स्टूल पास कराया जा रहा है । क्योंकि इसके अनल मे एंजयोरी होने की वजह से ऐसा करना पड़ रहा है । ऐसे मे आप समझ सकते है की स्पताल का खर्चा कितना होगा । ऐसे मे अभी तक दिल्ली सरकार की तरफ से कोई भी आगे आकार बात नहीं किया है ।   

पीड़ित परिवार का ये भी कहना है की हमारे जान को खतरा है इसलिए हमें पुलिस प्रोटेक्सन दिया जाय । हमारे घर मे कोई मेल व्यक्ति नहीं होने एवं हमारी आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण हमारी मदद कोई नहीं कर रहा है न स्कूल प्रशासन और न ही दिल्ली पुलिस। उनका ये भी कहना था की अगर यही मामला किसी अमीर या किसी नेता या किसी अधिकारी का होता तो एक घंटे के अंदर स्कूल सील और आरोपी जेल में होते। परिवार वालों का कहना है की मुझे देश की क़ानून व्यवस्था पर भरोसा है और मैं अपनी आखिरी साँस तक अपने मासूम को न्याय दिलवाने के लड़ूंगी चाहे इसके लिए मुझे अपने प्राणों की आहुति क्यों न देना पड़े ।

आज की रेपोर्टिंग करके मैं भी हतप्रभ था की किस तरह से एक निर्बल की कोई नहीं सुनता है । अगर आपके पास पैसा हो तो आप पैसे के बल पर कानून भी खरीद सकते हो । पर मुझे भी कहीं न कहीं कानून पर भरोषा है कोई तो ईमानदार व्यक्ति होगा जो न्याय का साथ देगा और इस पीड़ित दुखी परिवार को न्याय दिलवा सकेगा ।

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

error: Content is protected !!