Take a fresh look at your lifestyle.

सभी सरकारों, सभी पार्टियों और पूरे देश को मिल कर ऐसी व्यवस्था करनी पड़ेगी कि बहू बेटियां सुरक्षित हो सकें- अरविंद केजरीवाल*

उत्तर प्रदेश के हाथरस की गैंगरेप पीड़ित दलित बेटी को न्याय दिलाने की मांग को लेकर आम आदमी पार्टी आज जंतर मंतर पर आयोजित जन आंदोलन में शामिल हुई और इस संयुक्त जन आंदोलन को पूरी तरह से समर्थन दिया। जन आंदोलन में मौजूद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हाथरस की बेटी को ठीक से इलाज नहीं मिला। अंत में उसकी जान चली गई। उसके बाद कई दिनों तक बलात्कार की एफआईआर दर्ज नहीं हुई। फिर रात को उसके शव को जला दिया गया। आरोपियों को बचाने की कोशिश हुई। यह ठीक नहीं है। पूरे देश की बेटियां हमारी बेटी हैं। कहीं भी किसी के साथ बलात्कार नहीं होना चाहिए और इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। सभी सरकारों, सभी पार्टियों और पूरे देश को मिल कर ऐसी व्यवस्था करनी पड़ेगी कि बहू बेटियां सुरक्षित हो सकें। उन्होंने कहा कि हाथरस की बेटी के दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए, ताकि भविष्य में कोई इस तरह की हिम्मत न कर सके। पीड़ित परिवार को खुला छोड़ दिया जाए, वह जिससे मिलना चाहें, उससे मिले, ऐसे समय में परिवार सहानुभूति चाहता है। वहीं, ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि इस घटना के सभी आरोपी ठाकुर जाति के हैं और सीएम योगी आदित्यनाथ भी ठाकुर हैं। इसलिए योगी आदित्यनाथ और उनकी पुलिस आरोपियों को बचा रहे हैं। योगी आदित्यनाथ जी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि हाथरस की बेटी को न्याय दिलाने के लिए सबसे पहले आम आदमी पार्टी ने ही आवाज उठाई थी, जो आज जन मुहिम बन गई है। इस जन आंदोलन में पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज, मंत्री राजेंद्र पाल गौतम, विधायक आतिशी, विधायक दिलीप पांडेय, दुर्गेश पाठक, विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी, विधायक राखी बिड़ला, विधायक सोमनाथ भारती, विधायक राजेश गुप्ता, विधायक मदन लाल, विधायक विशेश रवि, विधायक ऋतुराज झा, विधायक अजेश यादव, विधायक शरद चैहान, विधायक साही राम, विधायक जरनैल सिंह, विधायक रोहित मेहरोलिया, विधायक अजय दत्त, विधायक हाजी यूनुस, विधायक विनय मिश्रा, विधायक अब्दुल रहमान, विधायक बंदना कुमारी प्रमुख रूप से शामिल रहे।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं इस दुख की घड़ी में हम यहां इकट्ठे हुए हैं। मैं यहां भाषण देने के लिए नहीं आया हूं। हम प्रार्थना करते हैं कि भगवान हमारी बेटी की आत्मा को शांति दे और उसे अपने चरणों में जगह दे। हमारी और पूरे देश की उत्तर प्रदेश सरकार से विनती है कि जो दोषी हैं, उन लोगों को सख्त से सख्त सजा दी जाए, उनको जल्दी से जल्दी फांसी दिलवाई जाए। दोषियों को इतनी कठोर सजा मिलनी चाहिए कि भविष्य में कोई इस तरह की हिम्मत न कर सके। जो पूरा घटनाक्रम हुआ, कुछ लोगों को लगता है कि दोषियों को जैसे बचाने की कोशिश की जा रही है, जैसे पूरे प्रकरण को ढंकने की कोशिश की जा रही है, यह नहीं होना चाहिए, यह गलत है। जो हुआ, वह बहुत ही पीड़ा दाई है, जो घटनाक्रम हुआ, आरोपियों ने बहुत ही कठोरता और क्रूरत के साथ उस बच्ची के साथ बर्ताव किया। अंत में उसकी जान चली गई। उसके बाद कई दिनों तक बलात्कार की एफआईआर दर्ज नहीं हुई। उसका ठीक से इलाज नहीं हो पाया, फिर रात को उसके शव को जला दिया गया। अब तो यह भी कहा जा रहा है कि रेप तो हुआ ही नहीं था। कई सारी ऐसी घटना हैं, जिसकी वजह से लोगों के मन में यह आ रहा है कि इसको ढंकने की कोशिश की जा रही है और दोषियों को बचाने की कोशिश की जा रही है। यह नहीं होना चाहिए। दोषियों को सख्त सजा मिले। दूसरा हमारी विनती है कि जिस परिवार ने यह सब भुगता है, उस परिवार की बच्ची गई है। उस परिवार को इस समय सहानुभूति चाहिए। उस परिवार को पूरे देश का समाज का और सरकार सहारा चाहिए। मीडिया में जो चल रहा है, जिस तरह का व्यवहार परिवार के साथ हो रहा है, वह सही नहीं हो रहा है। उस परिवार को खुला छोड़ दिया जाए, वह जिससे मिलना चाहें, जो भी उनसे मिलना चाहे। ऐसे मौके पर परिवार सहानुभूति चाहता है, एकांत चाहता है। उससे साथ इस वक्त जो ज्यादती हो रही है, वह सही नहीं है। दूसरी चीज इस पूरे मामले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। जो भी इस मामले में राजनीति करें, वह गलत बात है। कोई कहता है कि उत्तर प्रदेश में बलात्कार हो रहा है तो दूसरा कहता है कि राजस्थान में भी तो गया। यह तो कोई तर्क नहीं है, यह तो गलत है। उत्तर प्रदेश में भी क्यों हो और राजस्थान में भी क्यों हो, मध्यप्रदेश में भी क्यों हो, मुंबई में भी क्यों हो और दिल्ली में भी क्यों हो? कहीं किसी का बलात्कार नहीं होना चाहिए। अगर कहीं पर भी किसी का बलात्कार होता है, वह हमारी बेटी है। राजस्थान में भी हो, वह हमारी बेटी है, उत्तर प्रदेश की भी हमारी बेटी है, दिल्ली या मुम्बई, कोलकाता, की भी हो, वह हमारी बेटी है। कहीं भी किसी के साथ बलात्कार नहीं होना चाहिए। हम सब को मिल कर, सभी सरकारों और सभी पार्टियों को मिल कर, सारे देश को मिल कर ऐसी व्यवस्था करनी पड़ेगी कि बहू बेटियां सुरक्षित हो सकें। इस पर किसी किस्म की राजनीति नहीं होनी चाहिए।

वहीं, आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि भाजपा के लोगों द्वारा और मीडिया के साथियों द्वारा बार-बार यह प्रश्न पूछा जा रहा है कि इस बलात्कार में ऐसा क्या है कि इतना विरोध किया जा रहा है? मुझे लगता है कि उनकी इस बात का जवाब देना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि क्यों ऐसा हुआ कि निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए लाखों लोग इंडिया गेट पर इकट्ठा हुए? जबकि निर्भया से पहले भी बहुत से बलात्कार की घटनाएं हुई और निर्भया के बाद भी कई बलात्कार की घटनाएं हुई। हालांकि बलात्कार की घटनाओं पर होने वाले विरोध को किसी भी प्रकार से पृथक नही किया जा सकता है। घटना किसी के भी साथ हो, वह निंदनीय है। परंतु आज यह इतनी भारी मात्रा में जो भीड़ इकट्ठा हुई है, उसके पीछे का कारण यह है कि हाथरस के इस बलात्कार कांड में 14 सितम्बर से लेकर आज तक, हर कदम पर प्रशासन का हर एक अफसर चाहे वो थानेदार हो, एसएचओ हो, डीएम हो, डीएसपी हो, एडीजी हो या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हों, सब लोग आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। लड़की के बालात्कार का मुकदमा दर्ज नही किया गया, कामजोर मुकदमा बनाया गया, घटना के 8 दिन बाद बलात्कार का मुकदमा दर्ज किया गया, लड़की को मरने के लिए छोड़ दिया गया, उसको सही चिकित्सा नही दी गई और जब उस लड़की की मृत्यु हो गई, उसके बाद भी सबूतों को मिटाने के लिए उसके मृत शरीर को रातों-रात बिना उसके घरवालों को बताए चोरी-छुपे नष्ट कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि ऐसा क्या कारण है कि यह सभी अधिकारी आरोपियों के साथ खड़े हैं? प्रशासन का कोई भी आदमी पीड़ित के परिवार के साथ नहीं खड़ा? आज भी पीड़ित के परिवार को घर मे बंद किया हुआ है। मीडिया से बात करने की इजाजत नही है। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों को सीधा आदेश दिया गया है कि किसी भी राजनेता को पीड़ित के परिवार से न मिलने दिया जाए, क्योंकि योगी आदित्यनाथ जी आरोपियों के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ठाकुर परिवार से आते हैं और इस बलात्कार की घटना के सभी आरोपी भी ठाकुर परिवार से ही हैं। योगी आदित्यनाथ ठाकुरों के साथ खड़े हैं और योगी आदित्यनाथ जी के राज्य में किसी भी ठाकुर आरोपी को सजा नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में आरोपियों को सजा दिलाने का एक ही तरीका है कि योगी आदित्यनाथ जी को मुख्यमंत्री के पद से हटाया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Visitor Reach:1032,824
Certified by Facebook:

X
error: Content is protected !!