Take a fresh look at your lifestyle.

डीएल बनवाने के लिए अब रात में भी ड्राइविंग टेस्ट दे सकेंगे दिल्ली वाले, केजरीवाल सरकार ने शुरू किया तीन ऑटोमैटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक

नई दिल्ली,  दिन में ड्यूटी करने वाले दिल्ली वाले ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए अब रात में भी ड्राइविंग टेस्ट दे सकेंगे। ऐसे कामकाजी लोगों की समस्याओं का समाधान करते हुए केजरीवाल सरकार ने  पहल करते हुए नाइट शिफ्ट में भी ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक शुरुआत की है। अब दिन में ड्यूटी करने वाले लोग ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए रात में भी ड्राइविंग टेस्ट दे पाएंगे।  इसके लिए सरकार ने अभी 3  ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक की शुरुआत कर दी है।दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने शकूरबस्ती, मयूर विहार और विश्वास नगर में नाइट टेस्ट के लिए स्थापित ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक का  अनावरण किया। अब यहां ड्राइविंग टेस्ट देने वाले दिल्ली के लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जा सकेगा। सरकार ने अप्रैल माह में मयूर विहार और विश्वास नगर में ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक का  ट्रायल शुरू किया था, जिसकी सफलता के बाद  परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने औपचारिक उद्घाटन किया है।

परिवहन मंत्री श्री कैलाश गहलोत ने बताया कि विभाग ने 12 ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक स्थापित करने के लिए मारुति सुज़ुकी फाउंडेशन को जिम्मेदारी दी गई है। इसके साथ ही सभी 12 ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक सेंटर को ऑपरेटर देखरेख की जिम्मेदारी रोसमेर्टा टेक्नोलॉजी लिमिटेड को दी गई है।  ड्राइविंग टेस्ट की बारीकी से जांच हो इसके लिए हाई रेजोल्यूशन के 17 कैमरा लगाए गए हैं, जो रियल टाइम फुटेज और इमेज कैप्चर करता है। साथ ही टोकन के लिए इलेक्ट्रॉनिक कतार प्रबंधन प्रणाली भी लगाया गया है जो टेस्ट देने आए हुए लोगो को टोकन के साथ समय निर्धारित करता है। उन्होंने बताया कि एप्लीकेंट इसमें फर्स्ट इन फर्स्ट आउट करेंगे। बिना टोकन लिए किसी अन्य व्यक्ति का टेस्ट नहीं हो सकेगा। इसके लिए 6 सर्वर लगाए गए हैं, जो वीडियो को अच्छी तरह से जांच करेगा और उसका पारदर्शी रिजल्ट देगा। साथ ही साथ सारथी सॉफ्टवेयर पर ऑटोमेटिक अपलोड कर देगा।

ड्राइविंग टेस्ट पारदर्शी और प्रभावी तरीके से हो सके, इसके लिए 10 सीसी टीवी कैमरे सभी ऑटोमेटिक टेस्ट ट्रैक सेंटर पर स्थापित किया गया है। ड्राइविंग टेस्ट के दौरान मोटर व्हीकल एक्ट 99 के तहत आने वाले 20 आवश्यक ड्राइविंग स्किल्स की जांच की जाएगी।
ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक पर  शाम 5:00 बजे से शाम 8:00 बजे तक ड्राइविंग टेस्ट होगी। हर ट्रैक पर प्रतिदिन 45 अपॉइंटमेंट बुक किए जाएंगे। सभी 12 ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक चालू होने के बाद प्रतिदिन 3000 अपॉइंटमेंट शेड्यूल उपलब्ध होगा। फिलहाल इन तीनों ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक पर प्रतिदिन 135 ड्राइविंग टेस्ट शेड्यूल किया जा रहा है।
*ट्रायल के दौरान 30 अप्रैल से 24 मई तक तीनों ट्रैक पर बुकिंग की स्थिति*
तीनों जगह एक से 24 मई के बीच ट्रायल किया गया। जिसमे उत्साहवर्धक नतीजे सामने आए हैं। शकुरबस्ती, मयूरविहार और विश्वासनगर के ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक पर 30 अप्रैल से 24 मई तक ट्रायल के दौरान 2565 स्लॉट बुक हुए थे। जिसने से शकुरबस्ती में 855 लोगों ने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए स्लॉट बुक किया था। जिसमें से 255 लोग ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए पहुँचे थे। इसमें से 129 लोग ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक पर पास हुए। वही 126 लोग फेल हो गए। इसी तरह मयूर विहार में में 855 लोगों ने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए स्लॉट बुक किया था। जिसमें से 424 लोग ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए पहुँचे थे। इसमें से 232 लोग ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक में पास हुए, वही 192 लोग फेल हो गए। वहीं विश्वासनगर में भी 855 लोगों ने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए स्लॉट बुक किया था। जिसमें से 266 लोग ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए पहुँचे थे। इसमें से 149 लोग ऑटोमेटिक ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक पर पास हुए, जबकि 117 लोग फेल हो गए।
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Visitor Reach:1032,824
Certified by Facebook:

X
error: Content is protected !!