Take a fresh look at your lifestyle.

कोविड 19 में  इम्यूनिटी एक मित्र है या दुश्मन – जड़ी-बूटियों की भूमिका-Prof (Dr) Sundeep Mishra (AIIMS)

COVID रोग एक वायरल रोग है अतः इसके प्रति immunity (इम्युनिटी) बनना स्वभाविक है। यह इम्युनिटी रोग के सभी चरणों में (1-3 वें चरण) पैदा होतीहै और यह अधिकतर परिस्थितियों में सुरक्षात्मक ही होतो है, परंतु गंभीर COVID संक्रमण के साथ यह अति-प्रतिक्रियावादी और हानिकारक भी बन सकती है; और cytokine storm (साइटोकिन तूफान) को उत्पन्न कर सकती है। कोरोना वायरस के मामले में ऐसा लगता है कि T-cell immunity (टी-सेल प्रतिक्रिया) अधिक महत्वपूर्ण है (विशेष रूप से हल्के / लक्षणों के बिना बीमारी वालों मामलों में)। इसके अलावा अब यह पाया गया है कि SARS-CoV-2 वायरस केशरीर पर एक विशेष चरबी से चिपकने  वाला स्थान मौजूद है जो शरीर के 3 प्रकार के lipid metabolism को प्रभावित करता है; ऊर्जा (energy homeostasis), जैविक झिल्ली अखंडता (membrane integrity) और अणु संकेतिक रास्ते (molecular signaling pathways)। कोविड 19  मेंअत्यधिक बीमारी; उच्च सूजन (hyper-inflammation),  प्रतिरक्षा मॉडुलन (immune modulation) और झिल्ली में व्यवधान (membrane disruption) की वजह से होती है। यही कारण है कि COVID वायरस कुछ रोगियों में इस तरह के कठोर रोग (cytokine response) को पैदा कर सकता है।परिणामस्वरूप प्रतिरक्षा के स्वभाविक मार्ग अस्त वयस्थ हो जाते हैं। अतः रोग से निजात के लिए एक संतुलित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया (immune response) कीअत्याधिक आवश्यकता है। प्राकृतिक और चिकित्सीय दोनों तरह से प्रतिरक्षा में सुधार के कई तरीके हो सकते हैं। तालिका

तालिका – COVID-19 संक्रमण को रोकने के लिए रणनीतियाँ

क्रियाविधि निवारक रणनीति
वायरल संक्रमण क्लोरोक्विन / हाइड्रोक्सी-कोलेरोक्विन
वायरल लोड सोशल डिस्टन्सिंग
सामान्य स्वच्छता, जैसे हाथ धोना
मास्क पहनना
दस्ताने पहनना
भाप लेना
खारे गरारे करना
मेजबान – इम्यूनो-मॉड्यूलेशन PUL-042 के साथ नेबुलाइजेशन (nebulization)
धूम्रपान बंद करना
फल और सब्जियों से भरपूर आहार खाना
नियमित व्यायाम  करना
स्वस्थ वजन का रखरखाव
शराब कम पीना
पर्याप्त नींद लेना
तनाव को कम करना
सूक्ष्म पोषक तत्व – जस्ता (zinc), सेलेनियम, लोहा, तांबा, फोलिक एसिड, और विटामिनए, बी1, सी और ई।
ओमेगा 3 पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (Omega‐3 polyunsaturated fatty acids)
जड़ी बूटी और प्राकृतिक पूरक (supplements)

PUL-042

PUL-042 एक एजेंट है जिसका उपयोग नेबुलाइजेशन के द्वारा किया जाता है और यह दैहिक प्रतिरक्षा (immunity)  को मजबूत करता है। यह फेफड़ों कीउपकला कोशिकाओं (epithelial cells) से जुड़ जाता है और उन्हें कोरोना वायरस सहित फेफड़ों में किसी भी रोगजनकों के खिलाफ सक्रिय करता है। इसकेअलावा यह जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करता है और मैक्रोफेज (macrophage), एनके (NK) कोशिकाओं, बी कोशिकाओं (B cells), और अन्यप्रतिरक्षा कोशिकाओं को भी सक्रिय कर देता है। PUL-042 की रोग के रोकथाम और प्रारंभिक उपचार दोनों के लिए यूएस-एफडीए (US FDA) द्वाराप्रायोगिक उपयोग के लिए अनुमोदित दी गयी है। रोकथाम में इसका उपयोग सार्स-कोव -2 संक्रमण के संपर्क में आने वाले लोगों में 10 दिनों के लिए सांस केमार्ग से किया जाता है।

जीवनशैली उपाय

कई जीवन-शैली के उपाय वायरल संक्रमण सहित कई संक्रमणों के खिलाफ प्रतिरक्षा में फायदा कर सकते हैं; धूम्रपान बंद करना, दैनिक व्यायाम, शराब कम पीना, अच्छी नींद लेना, शरीर के आदर्श वजन को बनाए रखना, तनाव में कमी, फलों और सब्जियों का भरपूर सेवन, सूक्ष्म पोषक तत्वों (micro-nutrients)काउचित सेवन और कुछ जड़ी बूटियों का उपयोग भी मदद कर सकता है।

सूक्ष्म पोषक तत्व और प्रतिरक्षा

कुछ सूक्ष्म पोषक तत्वों जैसे कि जस्ता (zinc), सेलेनियम, लोहा, तांबा, फोलिक एसिड, और विटामिन ए, बी1, सी, और ई की कमी से प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया(immunity) में परिवर्तन आ सकता है इसीलिए यह सूक्ष्म पोषक तत्व COVID-19 से बचाव में भी लाभदायक हो सकते हैं।

  1. जस्ता (zinc)

जस्ता (Zn) मानव स्वास्थ्य के लिए एक आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्व है जो 100 से अधिक एंजाइमों को सक्रिय करता है। Zn सामान्य विकास, और प्रतिरक्षा cells की एंटीवायरल प्रतिक्रियाओं को उत्पन्न करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। Zn की कमी से antibody (एंटीबॉडी) उत्पादन, जन्मजात immunity और monocytes (मोनोसाइट्स) द्वारा cytokine (साइटोकिन) उत्पादन में कमी आ सकती है। Zn के कई एंटीवायरल प्रभाव प्रदर्शित किए गए हैं, इसमे कई nidoviruses शामिल हैं, जिन में से SARS-CoV-2 भी एक है। Zn को देने से एंटीवायरल इम्युनिटी बढ़ सकती है और यह कमज़ोर immunity को बहाल करने की क्षमता रखता है। अंत में Zn अन्य एंटी-वायरल एजेंटों के साथ सहक्रियात्मक लाभकारी कार्रवाई भी कर सकता है।

जिंक के साथ बिमारी का बचाव

बिमारी का बचाव के लिए, 50 मिलीग्राम जस्ता की एक खुराक सोते समय दैनिक रूप से ली जानी चाहिये।

  1. सेलेनियम

सेलेनियम एक आवश्यक तत्व है जो प्रकृति में व्यापक रूप से मौजूद है। यह वायरल आनुवंशिक तंत्र को सीधे और neuro-modulation (न्यूरो-मॉड्यूलेशन) द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करके संक्रामक रोगों से बचाव में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह काम कैसे करता है

प्रत्यक्ष एंटी-वायरल कार्रवाई – सेलेनियम, विटामिन ई के साथ oxidant (ऑक्सीकृत) कणों के गठन को रोकता है। यह वास्तव में ऑक्सीकृत उत्पाद हैं जो COVID रोग के कई नकारात्मक प्रभावों के लिए जिम्मेदार हैं। सेलेनियम की कमी से RNA (आरएनए) वायरस का खतरनाक रूप तेजी से उत्परिवर्तन हो सकता है और ऐसा वायरस जो सामान्य रूप से सौम्य / सौम्य होता है वह बहुत भयानक और रोगजनक हो जाता है

  • इम्यूनो-मॉड्यूलेशन – यह NK-cells और T-lymphocytes को बढ़ाता है
  • सहक्रियाशीलता – कुछ विटामिन D और E के प्रभाव को बढ़ाता है
  • एंटी – थ्रोम्बोटिक प्रभाव -सेलेनियम COVID-19 वाले रोगियों में रक्त के थक्कों के गठन को कम करता है। थ्रोम्बो-एम्बोलिज्म रुग्ण COVID-19 रोगियों में मृत्यु का महत्वपूर्ण कारण है

सेलेनियम की खुराक

एक चीनी विश्लेषण में यह पाया गया कि सेलेनियम के उच्च स्तर वाले क्षेत्रों में, संक्रमित रोगियों में SARS-CoV-2 कोरोना वायरस से ठीक होने की अधिक संभावना थी। हुबेई प्रांत के एन्सेही शहर में, जिसमें चीन में सेलेनियम की मात्रा सबसे अधिक है, ठीक होने की दर हुबेई प्रांत के अन्य सभी शहरों के लिए औसत से 3 गुना अधिक थी। एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि हुबेई के बाहर के 17 शहरों में सेलेनियम का स्तर (बालों में मात्रा) जितना अधिक होगी, ठीक होने की संभावना भी उतनी ही अधिक होगी। इसके अलावा, शोधकर्ताओं ने पाया कि COVID-19 रिकवरी दर सेलेनियम की स्थिति से काफी जुड़ी हुई थी, जैसा कि बालों में सेलेनियम की मात्रा से मापा जाता है। इसके अलावा, हेइलोंगजियांग प्रांत (जहां सेलेनियम का सेवन दुनिया में सबसे कम है) में, COVID-19 से मृत्यु दर चीन के बाकी हिस्सों की तुलना में ~ 5 गुना अधिक थी। साबुत अनाज और दूध उत्पाद (दूध और दही सहित) और कुछ फलों और सब्जियों में सेलेनियम काफी होता है। मुर्गी, मछली, seafood (सीफ़ूड) और अंडे में सेलेनियम की उच्च मात्रा होती है। यह कई मल्टी-विटामिन गोलियों में भी उपलब्ध है। वयस्कों में सेलेनियम के लिए अनुशंसित दैनिक भत्ता 55 ग्राम / प्रतिदिन है।

  1. लोहा

लोहा भी एक आवश्यक पोषक तत्व है। जहां एक ओर लोहे की कमी मेजबान की प्रतिरोधक क्षमता को खराब कर सकती है, वहीं दूसरी ओर लोहे के अधिभार से ऑक्सीडेटिव तनाव के कारण हानिकारक वायरल म्यूटेशन हो सकता है। इस प्रकार एक आदर्श लोहे का संतुलन आवश्यक है।

  1. विटामिन सी

विटामिन सी उर्फ एस्कॉर्बिक एसिड, एक पानी में घुलनशील विटामिन है। विटामिन सी एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में अपनी भूमिका के लिए जाना जाता है।

यह काम कैसे करता है

  • एंटी-ऑक्सीडेंट – एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में यह मृत कोषिकाओं और वायरस के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव क्षति को रोकता है
  • इम्यून-मॉड्यूलेटर – WBC के विकास का समर्थन करता है
  • कमजोर anti-histaminic – फ्लू से राहत प्रदान करता है (छींकना, बहती या भरी हुई नाक, और साइनस जैसे लक्षण)
  • सूजन के कारण फेफड़ों और अन्य अंगों को नुकसान को रोकता है (जो कि गंभीर COVID-19 में आम होता है)

विटामिन सी और खुराक

पशु अध्ययन में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए विटामिन सी कारगर पाया गया है। मानव परीक्षणों ने यह भी दिखाया है कि विटामिन सी प्रशासनमामूली सर्दी जुखाम और निमोनिया, दोनों के खिलाफ राहत प्रदान करने के रूप में सक्ष्म है। COVID-19 की गंभीर बीमारी में यह सूजन और अन्य लक्षणों कोरोककर काम कर सकता है। 100-200 मिलीग्राम / प्रतिदिन की एक खुराक पर्याप्त साबित हो सकती है। कुल मिलाकर, अनुशंसित खुराक में व्यावहारिक रूपसे ‘कोई नुकसान नहीं है बल्कि इससे कुछ लाभ हो सकता है।

  1. विटामिन डी

विटामिन डी एक पोषक तत्व और एक hormone (हार्मोन) दोनों है, जो सूर्य के प्रकाश के संपर्क में हमारे शरीर में उत्पन्न होता है और शरीर में हड्डियों कीअखंडता के रखरखाव के लिए आवश्यक है। इसकी कमी विशेष रूप से आम है ~ अमेरिका की आबादी में 40% (आमतौर पर बिस्तर पर रहने वाले, बुजुर्गव्यक्तियों (अनिवार्य रूप से धूप के संपर्क में नहीं आने वाले) और विशेष रूप से सर्दियों के मौसम में मौजूद होती है।

यह काम कैसे करता है

  • इम्यूनो-मॉड्यूलेशन – यह प्रतिरक्षा कोशिकाओं को उत्तेजित करता है – यह WBC को बहुत अधिक cytokines (साइटोकिन्स) को रिलीज करने से रोकता है।यह COVID-19-प्रेरित साइटोकिन तूफान (जो की COVID-19 प्रकोप में रुग्णता और मृत्यु दर का विषेश कारण है) की संभावना को कम कर सकता है। यहनिमोनिया के जोखिम को कम करने में भी मदद करता है
  • प्रत्यक्ष एंटीवायरल गतिविधि – cathelicidin (कैथेलाइडिन) के संश्लेषण को बढ़ाता है

विटामिन डी और खुराक

कई रिपोर्टों में सुझाव दिया गया है कि विटामिन डी का उच्च स्तर COVID-19 प्रकोप में मृत्यु दर को कम कर सकता है। एक हालिया अध्ययन ने यह दिखायाहै कि विटामिन डी प्रशासन गंभीर श्वसन पथ के संक्रमण से रक्षा कर सकता है। विटामिन डी से भरपूर आहार, जैसे कि वसायुक्त मछली, संतरे का रस, पनीर, और अंडे विटामिन डी की कमी को रोकने में मदद कर सकते हैं। विटामिन डी पूरक के मामले में, एक दैनिक खुराक ~ 2000 IU काफी है लेकिन जिनमे विटामिन डी की पहले से कमी है उनके लिए ~ 4000 IU की सिफारिश की जाती है।

  1. विटामिन बी कॉम्प्लेक्स

विटामिन बी भी पानी में घुलनशील विटामिन समूह है और यह सह-एंजाइम के हिस्से के रूप में काम करते हैं। प्रत्येक विटामिन का अपना विशेष कार्य होता है:

  • विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन) सभी कोशिकाओं के ऊर्जा की क्रय विक्रय में भूमिका निभाता है। यह मानव प्लाज्मा में MERS-CoV के स्तर को कम करता है
  • विटामिन बी 3 (निकोटिनामाइड) में रोग -विरोधी गतिविधि करता है, जिससे फेफड़े में न्युट्रोफिल घुसपैठ को रोका जाता है और फेफड़े में anti-inflammatory effect होता है।
  • प्रोटीन क्रय विक्रय में विटामिन बी 6 की आवश्यकता होती है और यह शरीर में 100 से अधिक प्रतिक्रियाओं में भाग लेता है और इम्यून-मॉड्यूलेटर भी है

विटामिन बी की कमी मेजबान प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को कमजोर कर सकती है और इसलिये उन्हें COVID – 19 से बचने के लिए उनका प्रयोग करना चाहिये।

  1. विटामिन

विटामिन ई एक चर्बी में घुलनशील विटामिन है और एंटीऑक्सिडेंट के रूप में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी कमी(विटामिन डी की कमी के साथ) कोरोना वायरस के संक्रमण से जुड़ी है। इस प्रकार इसका उपयोग COVID-19 के दौरान मृत कोशिकाओं और वायरस केकारण होने वाले नुकसान को कम करने में मदद कर सकता है।

  1. ओमेगा 3 पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (Ω-3 polyunsaturated fatty acids)

Ω-3 फैटी एसिड मछली के तेल का एक सामान्य घटक है।

यह काम कैसे करता है

  • शरीर में anti-inflammatory प्रतिक्रिया को संतुलित करता है
  • प्रत्यक्ष एंटी-वायरल – RNA मशीनरी के माध्यम से वायरस की प्रतिकृति को आकर्षित कर सकता है – एंटी हेपेटाइटिस virus सी गतिविधि गतिविधि
  • इम्यूनो-मॉड्यूलेटर – COVID-19 से होने वाले साइटोकिन तूफान को रोककर ऑटो-प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को कम कर सकता है। इसके अलावा कई अन्यक्रियाओं को भी प्रभावित कर सकता है। इस प्रकार आहार में ω-3 फैटी एसिड और विटामिन ई के उचित स्तर को स्थापित करना फायदेमंद प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाको बढ़ा और संशोधित कर सकता है।

जड़ी बूटी और प्राकृतिक पूरक

वायरल संक्रमण के इलाज के लिए जड़ी बूटियों का उपयोग करना भारत वर्ष में ऐतिहासिक है। हजारों वर्षों से, पश्चिम में भी फ्लू और निमोनिया जैसे श्वसनसंक्रमण सहित विभिन्न बीमारियों के लिए पारंपरिक प्राच्य चिकित्सा में उपयोग की जाने वाली कई जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है। हालांकि, इनसे शक्तिशाली एंटी-वायरल प्रभाव की उम्मीद है, पर अब तक कोई भी नैदानिक प्रमाण नहीं पाया है पर क्योंकि वे वास्तव में प्रतिरक्षा को इतना अधिक प्रभावितकरते हैं कि वे कोरोना संक्रमण और बीमारी से सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। Forsythia का उपयोग अतीत में वायुमार्ग की बीमारियों, सूजन, बुखार और अन्यस्थितियों के लिए किया जाता है। लेकिन किसी भी उपयोग का समर्थन करने के लिए कोई अच्छा वैज्ञानिक अनुसंधान नहीं है। नद्यपान ऐसे उपायों में से एक हैजिसे चीन में अधिकारियों ने COVID -19 के लिए सुझाया है। यह वायरस (दाद) की प्रतिकृति को रोकता है और इसलिए यह कोरोना वायरस में भी उपयोगीहो सकता है। हालांकि, इसका एक प्रमुख नकारात्मक पहलू यह भी है; यह सक्रिय कर सकता है,  एल्डोस्टेरोन हार्मोन को जो उच्च रक्तचाप (high BP)  केलिए एक बड़ा जोखिम कारक बना सकता है। हालांकि, सबसे महत्वपूर्ण जोखिम यह है कि कुछ जड़ी-बूटियों, अगर दुरुपयोग किया जाता है, तो प्रतिरक्षाप्रणाली को और भी अधिक बढ़ा सकते हैं और “साइटोकिन तूफान” की ओर ले जा सकते हैं, जो COVID-19 की सबसे खतरनाक दुष्प्रभाव में से एक है। चरकसंहिता आम सर्दी के लिए निम्नलिखित जड़ी बूटियों का सुझाव देती है; सिटोपालादि, तालीसादि, अभ्रक भस्म और महासुदर्शन चूर्ण लेकिन COVID संरक्षण मेंउनके प्रभाव अज्ञात हैं। पारंपरिक भारतीय चिकित्सा से पता चलता है कि तुलसी (पवित्र तुलसी, एक या दो पत्ते), अदरक, दालचीनी और इलायची से बना काड़ाफायदेमंद हो सकता है लेकिन इसके काई ठोस  प्रमाण नहीं है, हालांकि इसके साथ लगता है कि कोई नुकसान नहीं होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Visitor Reach:1032,824
Certified by Facebook:

X
error: Content is protected !!