Take a fresh look at your lifestyle.

नासा ने 20 जून को भारतीय छात्र उपग्रह “रमनसैट” को अंतररक्ष में भेजने की तैयारी की

यह खगोल विज्ञान और अंतररक्ष शिक्षा और प्रौद्योगगकी के क्षेत्र में काम करने िाले एक अग्रणी संगठन स्पेस इंडिया के शलए गिव का क्षण है, जजसने 17 िर्षीय छात्र, आभा शसक्का को एक मंच, मागवििवन और सहायता प्रिान की है, जो नासा के ओररयन टेररयर साउंि रॉकेट पर 20 जून 2019 को अंतररक्ष में लॉन्च करने के शलए बिल्कुल तैयार है। प्रयोग को ले जाने िाले रॉकेट को भारतीय समयानुसार िोपहर 3:00 िजे लॉन्च ककया जाएगा। रॉकेट को अमेररका के िजीननया में जस्ित नासा की िॉलॉप्स फ़्लाइट फैशसशलटी से लॉन्च ककया जाएगा और 116 ककमी की ऊँचाई प्राप्त होगी और उडान लगभग 15 शमनट तक चलेगी।
छोटे घन आकार की जांच को रमनसैट नाम दिया गया है और इसे श्री सगचन िहम्िा, सीएमिी, स्पेस और स्पेस अनुसंधान टीमों की मेंटरशिप के तहत तैयार ककया गया है। स्पेस इंडिया प्रयोग के शलए एक सक्षम राष्ट्रीय लैि की मिि भी ले रहा है।
20 जून को उडान भरने का प्रयोग केिल स्पैस के युिा प्रशिक्षुओं द्िारा तैयार ककए गए िो प्रयोगों में से एक है, जजसे ‘क्यूब्स इन स्पेस’ के नाम से आयोजजत प्रनतजष्ट्ठत अंतरराष्ट्रीय प्रनतयोगगता के तहत अंतररक्ष में लॉन्च करने का अिसर शमला है Idoodleedu inc – नासा के सहयोग से अमेररका जस्ित कंपनी। िूसरा प्रयोग अंतररक्ष में गामा विककरण को ऊंचाई के एक कायव के रूप में मापेगा और इस साल अगस्त में उच्च ऊंचाई िाले गुब्िारे पर 40 ककमी की ऊँचाई तक उडान भरेगा। ये िो प्रयोग क्यूब्स द्िारा िुननया भर के प्रनतभागगयों से प्राप्त ककए गए 350 प्रयोग प्रस्तािों का दहस्सा िे, जजनमें से लगभग 160 को लॉन्च करने के शलए चुना गया िा।

इस उपलजब्ध के महत्ि पर दटप्पणी करते हुए, श्री सगचन िहम्िा ने कहा: “यह केिल स्पेस संगठन के शलए ही नहीं िजल्क िेि के शलए भी गिव का क्षण है जि भारत के ऐसे युिा छात्र अंतररक्ष में प्रयोगों को िाशमल करने िाली पररयोजनाओं पर काम करने के शलए कैशलिर का प्रििवन कर रहे हैं। हम अपने छात्रों को भाग लेने का ऐसा अिसर प्रिान करने के शलए अंतररक्ष कायवक्रम में क्यूब्स के साि-साि नासा के आभारी हैं। परंपरागत रूप से, केिल िैज्ञाननक और अंतररक्ष एजेंशसयां अंतररक्ष में िाशमल हुई हैं, लेककन अि एक ऐसे युग में प्रिेि ककया है जहां अंतररक्ष अन्िेर्षण स्कूल के छात्रों का िोमेन िन गया है, इस अिसर के शलए धन्यिाि ”

अंतररक्ष संगठन िडी संख्या में भारतीय छात्रों को अंतररक्ष में प्रयोगों का संचालन करने में सक्षम िनाने के शलए प्रनतिद्द है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Visitor Reach:1032,824
Certified by Facebook:

X
error: Content is protected !!