Take a fresh look at your lifestyle.

“गेल उत्कर्ष” कानपुर केंद्र से 100% छात्र जेईई मेन्स में उत्तीर्ण हुए हैं, उत्तराखंड केंद्र से 60 में से 50 छात्र ने सफल

कानपुर, : गेल (इंडिया) लिमिटेड के निगमित सामाजिक दायित्व की पहल ‘गेल उत्कर्ष’ के अंतर्गत समाज के वंचित वर्गों के सभी 100 छात्रों ने कानपुर केंद्र में दाखिला लिया और जेईई मेन्स 2019 की परीक्षा उत्तीर्ण की। उनके अलावा, उत्तराखंड में इसके नव-स्थापित केंद्रों में से 60 छात्रों में से 50 ने प्रतिष्ठित प्रवेश परीक्षा में सफलता प्राप्त  की है।  श्री पी के गुप्ता, गेल के निदेशक (मानव संसाधन) ने आज यहां घोषणा की।जबकि कानपुर केंद्र प्रतिभाशाली छात्रों के जीवन को बदलने में लगातार सफल रहा है, यह पहली बार है कि इसने 100% की सफलता दर हासिल की है, जिसमें 14 लड़कियों सहित सभी 100 छात्रों ने इस वर्ष जेईई मेन्स क्वालिफाई  किया है।  श्री पीके गुप्ता ने एक सम्मान समारोह में कहा कि पिछले साल 100 छात्रों में से 99 ने परीक्षा में उत्तीर्ण हुए हैं, जिसमें गेल के कार्यकारी निदेशक (मानव संसाधन और सीएसआर) श्री प्रसून कुमार, गेल के मुख्य महाप्रबंधक (सीएसआर) श्री अनूप गुप्ता और सामाजिक दायित्व और नेतृत्व (CSRL) के निदेशक श्री एस.के. शाही भी इस समारोह में उपस्थित रहे।गेल उत्कर्ष के दसवें बैच के छात्रों को इस सीएसआर परियोजना के तहत एक वर्ष का नि: शुल्क आवासीय कोचिंग प्रदान की गई थी, इसका आयोजन सीएसआरएल के साथ साझेदारी में आयोजित किया जाता है। गेल ने सार्वजनिक उपक्रमों में पहला स्थान प्राप्त किया था, गेल ने वर्ष 2009-10 में पिछड़े वर्ग के छात्रों के लिए कानपुर में कोचिंग सेंटर शुरू किया था।गेल ने हाल ही में उत्तराखंड के द्वारहाट और श्रीनगर में भी इसी तरह के कार्यक्रम शुरू किए हैं । इस साल, श्रीनगर के 30 छात्रों में से 26 और द्वारहाट के 30 में से 24 छात्रों ने जेईई मेन्स क्वालिफाई किया। श्री पी के गुप्ता ने कहा कि इन केंद्रों पर सफलता के मद्देनजर चालू सीजन में प्रत्येक के लिए शक्ति बढ़ाकर 50 कर दी गई है।सीएसआरएल के साथ साझेदारी में आयोजित’गेल उत्कर्ष’ केवल 23 छात्रों के साथवर्ष 2009 में शुरू हुआ था,इसने   अभी तक683 छात्रों के जीवन को बदल दिया है,इन्होंने आईआईटी / एनआईटी और अन्य प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश दर्ज किया । इस परियोजना की सफलता दर 89% है ।छात्रों को लिखित परीक्षा, साक्षात्कार तथा सख्त आर्थिक मानदंडों के आधार पर चुना जाता है। अर्थात् माता-पिता की वार्षिक आय प्रतिवर्ष 2.50 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। अधिकांश छात्र ग्रामीण क्षेत्र से आते हैं ।  इंजीनियरिंग कॉलेजों में सीटें हासिल करने वाले छात्रों को गेल चैरिटेबल एंड एजुकेशनल ट्रस्ट (GC & ET) के माध्यम से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। प्रत्येक चयनित छात्र को अपनी शिक्षा शुल्क और अन्य खर्चों को पूरा करने के लिए रु. 48,000 से 60,000 तक राशि की छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।   प्रासंगिक  पांच बैचों के छात्रों ने विभिन्न प्रतिष्ठित कंपनियों में रोजगार प्राप्त किया है , उन्होंने औसत वेतन 6.00 लाख प्रति वर्ष के साथ अपने प्रोफेशनल करियर की शुरुआत की है ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Visitor Reach:1032,824
Certified by Facebook:

X
error: Content is protected !!